आखिरकार चाइना हार मान ही गया

आखिरकार चाइना हार मान ही गया

आखिरकार चाइना हार मान ही गया

दोस्तों जैसा कि हमने आपको बताया था कि चाइना ताइवान के ऊपर हमला करने के फिराक में था पिछले कुछ दिनों से

कुछ दिनों पहले चाइना ने करीब 56 लड़ाकू विमान जिनमें कई सारे परमाणु बम को ले जाने वाले विमान थे इन सभी विमानों को ताइवान की सीमा के अंदर चाइना ने भेजे थे उस रात ताइवान के लोगों को ऐसा लगा था कि अब किसी भी वक्त चाइना ताइवान के ऊपर हमला कर सकता है

लेकिन उस वक्त सिर्फ चाइना अपनी दादागिरी दिखाने के लिए विमानों को भेजा था लेकिन चाइना के रवैया से साफ पता चल रहा था कि चाइना किसी भी वक्त ताइवान पर अटैक कर सकता है

जिसके बाद से ताइवान सरकार ने अपने अमेरिका जापान से सहयोग मांगा जिसके बाद से अमेरिका जापान और यूके अपने न्यूक्लियर युद्ध पोतों को फिलिपिंस सी में भेज दीया फिलीपींस सी चाइना ताइवान और जापान के बीच में है यानी कि चाइना की बेहद पास

अमेरिका ने अपना सातवां बेड़ा जापान के सीमा में तैनात किया हुआ था जैसा कि हम सभी जानते हैं कि अमेरिका का सातवां बेड़ा अभी तक का सबसे ताकतवर जंगी जहाजों का समूह है सातवां बेड़ा में करीब 3 न्यूक्लियर
जहाज है जो पल भर में ही किसी भी देश को धूल चटा सकते हैं दुनिया भर के सभी देशों में अभी तक का सबसे ताकतवर जंगी जहाजों का समूह अमेरिका का सातवां बेड़ा है

अमेरिका न्यूज़ पूरी ही दुनिया को चौक आते हुए 8 अक्टूबर 2021 को एक अमेरिकी सरकार के एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि ताइवान के अंदर पिछले एक साल से अमेरिका की कुछ स्पेशल फोर्सेज के सैनिक मौजूद हैं और वह ताइवान के सैनिकों को ट्रेनिंग दे रहे हैं पिछले एक साल से

इस खबर को मीडिया में आने के बाद यह खबर जंगल की आग की तरह फैल गई पूरी ही दुनिया में जिसके बाद से चाइनीस सरकार के होश उड़ गए
और तो और अमेरिका के साथ-साथ यूके ने भी अपना सबसे ताकतवर न्यूक्लियर जंगी बेड़ा फिलीपींस सागर में भेज दिया जिसके बाद से चाइना बौखला गया
चाइना के एक बड़े सुरक्षा अधिकारी ने एक इंटरव्यू में कहा था कि ताइवान और चाइना के मसले में कोई दूसरा देश अगर आगे आता है तो चाइना उस देश से भी युद्ध करेगा

चाइना के इन करामाते के बाद से चाइना के अंदर चाइना के लोग बेहद देश भक्ति भावनाओं में जी रहे थे चाइना के लोगों को लग रहा था कि अब चाइनीस सरकार कभी भी ताइवान पर हमला करके ताइवान को कब जा सकता है

आखिरकार चाइना हार मान ही गया

लेकिन 10 अक्टूबर 2021 को चाइना के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने एक इंटरव्यू में कहा है कि हम ताइवान पर हमला नहीं करेंगे ताइवान के साथ कोई भी युद्ध नहीं करेंगे और ना ही ताइवान को अब परेशान करेंगे शी जिनपिंग ने कहा है कि अब चाइना ताइवान के साथ दोस्ती का हाथ बढ़ाया और बातचीत करके ताइवान को चीन में शामिल करेगा शी जिनपिंग के इस इंटरव्यू के बाद से पूरे ही चाइना में शी जिनपिंग के खिलाफ लोगों का गुस्सा बेहद ही ज्यादा दिखा और पूरी ही दुनिया में चाइनीस सरकार की इस नाकामी पर मजाक बनाया गया

कई सारे बड़े-बड़े देशों ने कहा कि चाइना,अमेरिका यूके और जापान से डर गया और जिसके बाद से चाइना के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने यह निर्णय लिया

लेकिन अभी भी अमेरिकी सरकार चाइनीस सरकार के इस निर्णय के बाद से चाइना के ऊपर तनिक भी भरोसा नहीं कर रही है अमेरिका ने कहा है कि करीब 1 महीने तक कम से कम अभी और अमेरिका के युद्धपोत चाइना के आस-पास ही रहेंगे

और भी अपडेट्स जल्दी ही आएंगे… ..

ऐसे और ट्रेंडिंग चीजों के बारे में जानने के लिए हमारे वेबसाइट पर जाएं- ALWAYSTREND.IN

अमेजिंग फैक्ट वीडियोस देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को प्लीज सब्सक्राइब करें-Miss technical fact

Leave a Reply

Your email address will not be published.