आखिरकार भारत ने ब्रिटेन को घुटनों पर ला ही दिया

आखिरकार भारत ने ब्रिटेन को घुटनों पर ला ही दिया

आखिरकार भारत ने ब्रिटेन को घुटनों पर ला ही दिया

 

दरअसल, दोस्तों हमने आपको बताया था कि भारत और ब्रिटेन के बीच में एक विवाद हो गया था जिसके कारण ब्रिटेन ने भारतीय लोगों को यूरोप के कई देशों मैं और खुद ब्रिटेन देश के अंदर आने से प्रतिबंध लगा दिया था

 

जिसके कारण से भारतीय मूल के लोग, जो ब्रिटेन या फिर यूरोप में काम करते थे उन्हें काफी ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था

ब्रिटेन की सरकार पर भारी दबाव डालने के बाद ब्रिटेन ने एक नया नियम लाया की अगर कोई भारतीय ब्रिटेन के अंदर आता है तो उसे 15 दिन क्वॉरेंटाइन रहना ही पड़ेगा जिसके बाद से कुछ राहत तो मिली भारतीय लोगों को लेकिन भारतीय लोगों को बहुत ही ज्यादा आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा था

जिसके बाद से लगातार भारत की सरकार ब्रिटेन की सरकार से बातचीत कर रही थी लेकिन ब्रिटेन बहुत ही सख्त रवैया इस पर दिखा रहा था

लेकिन यूरोप के लगभग सभी देश भारत के पक्ष में अपना निर्णय लिया और उन भारतीय लोगों को अपने देश में आने की इजाजत दी जिन्होंने दोनों डोज वैक्सीन की लगवा ली थी जिसके बाद से भारतीय लोगों के लिए बहुत बड़ी राहत की खबर आई यूरोपीयन कंट्रीज के द्वारा

लेकिन,

ब्रिटेन अपने फैसले पर अड़ा रहा ब्रिटेन की सरकार ने भारत की सरकार की एक ना सुनी और 15 दिन क्वॉरेंटाइन वाला रूल लगाकर रखा जिसके बाद से कुछ दिन पहले भारतीय सरकार ने बहुत ही कड़ा फैसला लिया और ब्रिटेन के साथ जैसा को तैसा वाला काम किया यानी कि ब्रिटेन ने जैसे भारतीय लोगों को ब्रिटेन के अंदर आने के बाद से 15 दिन क्वॉरेंटाइन रखने का रूल बनाया था

वैसे ही भारतीय सरकार ने ब्रिटेन के लोगों पर 15 दिन क्वॉरेंटाइन रहने का कानून बनाया और तो और उन लोगों को हर अगले 8 दिन में अपना चेकअप करा कर भारतीय सरकार को देना होगा

आखिरकार भारत ने ब्रिटेन को घुटनों पर ला ही दिया

भारत के इस निर्णय के बाद कई लोगों का मानना यह था कि भारत का या निर्णय बेबुनियाद है ब्रिटेन के लोगों का इससे कोई नुकसान नहीं होगा

लेकिन 5 अक्टूबर 2021 को भारत में अपने भारतीय हॉकी टीम का नाम वापस ले लिया अगले साल होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स से और भारत ने पूरी ही दुनिया को यह निर्णय लेने का कारण भी बताया भारत ने पूरी दुनिया को बताया कि ब्रिटेन का वैक्सीनेशन कानून के कारण हम अपनी भारतीय हॉकी टीम को ब्रिटेन में अगले साल होने वाले कॉमनवेल्थ गेम से नाम वापस ले लिया

 

जिसके बाद से भारत की इस निर्णय के बाद पूरी ही दुनिया में ब्रिटेन के ऊपर सवाल उठने लगे की भारत जैसा इतना बड़ा देश अगर अपनी हॉकी टीम को ब्रिटेन में नहीं भेज रहा है खेलने के लिए तो हम अपनी टीम को क्यों भेजें

जिसके बाद से ब्रिटेन को यह डर सताने लगा कि कहीं भारत के इस निर्णय के बाद से पूरी ही दुनिया में उसके ऊपर उंगलियां ना उठाए जाएं और अन्य देश कहीं अपने टीम्स का नाम वापस ना ले ले भारत के जैसे

 

जिसके बाद से ब्रिटेन में 8 अक्टूबर 2021 को यूरोपियन कंट्री के जैसे एक नया कानून लाया की अगर कोई भारतीय कोई भी वैक्सीन के दोनों डोज को ले लिया है तो ब्रिटेन के अंदर आ सकता है बिना किसी दिक्कत के

 

ब्रिटेन के इस निर्णय के बाद से पूरी ही दुनिया में भारत का नाम जोर शोर से लिया जा रहा है क्योंकि भारत में आजादी के बाद ब्रिटेन पर पहली बार इतने कठोर कदम उठाएं और ब्रिटेन को घुटनों पर ला दिया

 

दरअसल ब्रिटेन भारत के लोगों को अपने देश में आने नहीं देना चाहता था जिसके बाद से भारतीय मूल के लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पढ़ रहा था ब्रिटेन के रूल के हिसाब से अगर कोई भी भारतीय 15 दिन तक क्वॉरेंटाइन रहता था ब्रिटेन के अंदर तो कम से कम $2000 यानी 150000 से 200000 तक का खर्चा उठाना पड़ रहा था

भारतीय लोगों के हिसाब से यह बहुत बड़ी रकम थी इन दिक्कतों को देखते हुए भारतीय सरकार ने ब्रिटेन की सरकार से बातचीत करके मामले को शांत करने की कोशिश की लेकिन ब्रिटेन अपनी दादागिरी दिखा रहा था जिसके बाद से भारत की सरकार ने बेहद ही कड़े कदम उठाएं जिसके बाद से ब्रिटेन आखिरकार अपने घुटनों पर आ गया और भारतीय सरकार की बात मान ली

और भी अपडेट्स जल्दी ही आएंगे… ..

ऐसे और ट्रेंडिंग चीजों के बारे में जानने के लिए हमारे वेबसाइट पर जाएं- ALWAYSTREND.IN

अमेजिंग फैक्ट वीडियोस देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को प्लीज सब्सक्राइब करें-Miss technical fact

Leave a Reply

Your email address will not be published.